गुणकारी और विश्व स्तरीय गन्ना उत्पादन के लिए तत्पर

Ganna Calender     IISR Technologies
     Videos at IISR

फसल सुधार विभाग

भारत के उपोष्ण कटिबंधीय क्षेत्र में गन्ना किस्मों के मूल्यांकन के लिए गन्ना प्रजनन संस्थान, कोयंबटूर के नियंत्रण के तहत वनस्पति विज्ञान और प्रजनन अनुभाग के रूप में एक छोटी इकाई को इस क्षेत्र के एक क्षेत्रीय केंद्र के रूप में भारतीय गन्ना अनुसंधान संस्थान, लखनऊ में स्थापित किया गया था। वर्ष 1969 में इस इकाई को भारतीय गन्ना अनुसंधान संस्थान, लखनऊ में स्थानांतरित किया गया। इस अनुभाग को 1989 में वनस्पति और प्रजनन विभाग का नाम दिया गया। इसके बाद फसल सुधार विभाग के रूप में पुनः नामित किया गया। संस्थान के अधिदेश के अनुसार इस विभाग के वैज्ञानिकों ने उपोष्णकटिबंध में चीनी फसलों (गन्ना और चुकंदर) पर मौलिक और अनुप्रयुक्त अनुसंधान, जर्मप्लाज्म के मूल्यांकन, संवर्धन और किस्म सुधार के लिए अनुसंधान का शुभारंभ किया । वर्ष 1994 में संस्थान के अधिदेश को फिर से संशोधित किया गया । हालांकि 1994 में गठित आरएसी की सिफारिश पर भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद ने फसल सुधार विभाग को अधोलिखित अधिदेश पर अनुसंधान कार्य करने का अनुमोदन किया है।

मिशन

  • गन्ना व चीनी की उच्च उत्पादकता के लिए लाल सड़न रोग प्रतिरोधी प्रजातियों का विकास

प्रमुख शोध बिन्दु

  • उपोष्णकटिबंधीय भारत के लिए उपयुक्त प्रजातियों को विकसित करना
  • सैकेरम समूह के जीन अंतर्गमन द्वारा आर्थिक महत्व के लक्षणों में आनुवांशिक वृद्धि करना
  • जैव प्रौद्योगिकी अंतःक्षेपों के माध्यम से प्रजनन क्षमता में वृद्धि
  • भारतीय कृषि जलवायु के लिए चुकंदर का प्रजनन एवं इसका अनुकूलन

उपलब्ध सुविधाएं

  • आण्विक जीवविज्ञान और जैव प्रौद्योगिकी प्रयोगशाला: पीसीआर, वैद्युतकणसंचलन (ऊर्ध्वाधर और क्षैतिज), डीएनए अनुक्रमण जेल, उच्च गति प्रशीतित अपकेंद्रित्र, डीप फ्रीजर (80oC), जल शोधन प्रणाली, संकरण, ओवन आदि
  • कोशिकानुवांशिकी जनन प्रयोगशाला : कोशिकानुवांशिकी स्टेशन, इन सिटू मॉड्यूल के साथ थर्मल साइकिलर फ्रीज़ ड्रायर, जेल डॉक प्रणाली पावर पाक के साथ एलेक्ट्रोफोरेसिस सिस्टम आदि।
  • डी यू एस परीक्षण प्रयोगशाला : DUS परिलक्षणन तथा गन्ने की नई प्रजातियों के साथ तुलना के लिए गन्ने की 108 संदर्भ प्रजातियों का अनुरक्षण करना। डी यू एस परीक्षण हेतु गन्ने की 108 संदर्भ किस्मों का संरक्षण और नई गन्ना किस्मों के साथ तुलना करना।
  • ग्लास घर / पाली घर सुविधाएं: गन्ने की फूंजी (फ्लफ) बुवाई तथा बेहन उगाने के लिए इन सुविधाओं का उपयोग किया जा रहा है।

विभागाध्यक्ष: डॉ. रमन कपूर (कार्यकारी)